देशभर के 82 मेडिकल कॉलेजों में लगीं रोक, जाने कहीं आपका कॉलेज तो इसमें नहीँ..

    0
    1101
    82 medical colleges disapproved for 2018-19
    82 medical colleges disapproved for 2018-19

    केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MOHFW) ने प्रवेश वर्ष 2018-19 के लिए देशभर के लगभग 82 मौजूदा मेडिकल कॉलेजों में रोक लगा दी है| इसके तहत कर्नाटक के सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज और छत्तीसगढ़ के छत्तीसगढ़ इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज समेत कई राज्यों के प्रमुख मेडिकल संस्थान इस शैक्षणिक सत्र के लिए छात्रों को स्वीकार करने से प्रतिबंधित हो गयें हैं। पेश है एक स्पेशल रिपोर्ट.

    टूटते सपनें, घटते मेडिकल सीट्स

    यहाँ यह बताते चले कि एमसीआई (MCI) ने 31 मई, 2018 को इंफ्रास्ट्रक्चर, संकाय और मरीजों की संख्या के कारण मेडिकल कॉलेजों में ‘कमियों’ का हवाला देते हुए केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय को अपनी सिफारिश भेजी थी। इसमें मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया ने करंट अकादमिक इयर के लिए देशभर के लगभग 100 से अधिक मेडिकल कॉलेजों का निरक्षण किया जिसके तहत कुल 82 कॉलेजों को इस साल (2018-19) के लिए किसी भी तरह के MBBS सीट्स में एडमिशन लेने से मना कर दिया गया है| 

    Get Latest Info. About this Story/Article, via SMS & Email.

    आइये नजर डालते है किस स्टेट में हुए कितने मेडिकल कॉलेज प्रभावित

    State Disapproved colleges for 2018-19 Number of seats
    Uttar Pradesh 26 3250
    Karnataka 17 2220
    Maharashtra 13 1600
    Kerala 12 1550
    Madhya Pradesh 12 1600
    Tamil Nadu 11 1650
    Haryana 9 1150
    Rajasthan 9 1050
    Andhra Pradesh 8 1200
    Bihar 8 810
    Telangana 8 1100
    Gujarat 7 1050
    Jharkhand 7 700
    Chhattisgarh 5 700
    Uttarakhand 3 350
    West Bengal 2 300
    Assam 1 100
    Pondicherry 1 100

    सरकारी कॉलेजों में भी लगी रोक

    गौरतलब है कि इस साल के लिए प्रतिबंधित कुल 82 कॉलेजों में 12 सरकारी मेडिकल कॉलेज हैं जबकि 70 निजी कॉलेज हैं। सरकारी कॉलेज जिन्हें अनुमति से वंचित कर दिया गया है उनमे से ज्यादातर उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, कर्नाटक और केरल में स्थित हैं। कुल मिलाकर, देश में उपलब्ध 65,000 मेडिकल सीटों में से लगभग 10,430 एमबीबीएस सीटें इस वर्ष के लिए अनुपलब्ध रहेंगीं|

    आइये एक नजर केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी विज्ञप्ति में भी डाले|

    नए कॉलेजों को भी नहीं मिली मंजूरी

    इसके अलावा, केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश में 10 और कर्नाटक में 8 सहित कुल 68 नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना को भी अस्वीकार कर दिया है| यदि इन नए कॉलेजों को मान्यता मिल जाती तो मौजूदा मेडिकल सीट में 9000 एमबीबीएस सीटें और जुड़ जाती| अब देखना यह है कि जहाँ एक ओर नीट 2018 में कुल आवेदकों की संख्या बढ़ी है तो वही दुसरे ओर कुल मेडिकल सीट्स में भी भाड़ी गिरावट आई है| ऐसे में कम्पटीशन टफ होने की बेहद संभावना है|

    आखिर बच्चों की कौन सुने?

    हालांकि, छात्रों को यह ध्यान में रखना चाहिए कि एमसीआई सालाना आधार पर कई कॉलेजों के लिए अनुमति की अस्वीकृति की सिफारिश करता है लेकिन अधिकांश कॉलेज सफलतापूर्वक निर्णय को खत्म करने और काम जारी रखने में सक्षम हो जाते हैं। ऐसे में यही उम्मीद की जा सकती है कि इस साल भी कॉलेज एवं आयोग के बीच फैले इस अस्थिरता को जल्द ही दूर कर लिया जाएगाः|

    शिक्षा से जुड़ीं ऐसे ही ढेर सारे न्यूज़ अपडेट को सीधा अपने मोबाइल में पाने के लिए हमे सब्सक्राइब करना ना भूले|

    भविष्य की शुभकामनाएं|

    Summary
    Review Date
    Reviewed Item
    आयोग ने देशभर के 82 मेडिकल कॉलेजों में लगाईं रोक, जाने कहीं आपका कॉलेज तो इसमें नहीँ..
    Author Rating
    51star1star1star1star1star
    Disclaimer: All the information (including colleges, universities, their respective courses etc.) on Edufever.com has been compiled from the respective websites, newspaper and other reliable sources available in the public domain. While every care has been taken to present the information in most comprehensive, accurate and updated form during compilation, yet Edufever doesn't take any kind of responsibility regarding the content. However, if you have found any inappropriate or wrong information/data on the site, inform us by emailing us at [[email protected]] for rectification/deletion/updating of the same.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here