Fishery Technology:जलीय जीवो का अनदेखा संसार, करियर की दृष्टि से है खास

    Career in Fishery Technology in Hindi
    Career in Fishery Technology in Hindi

    Career in Fishery Technology in Hindi: प्राचीन काल से ही विश्व में मछली भोजन का एक महत्वपूर्ण अंग रहा है, मछुआरे मछलियों को पकड़ने के लिए समुद्र और नदियों की यात्राएं करते थे, ऐतिहासिक धार्मिक ग्रंथों में भी मत्स्य पालन का उल्लेख है। भारत में मछली पालन तटीय राज्यों का मुख्य व्यवसाय है।समय के साथ यह एक संगठित इंडस्ट्री का रूप ले चुकी है। केरल, प.बंगाल, तमिलनाडु, गोआ, महाराष्ट्र, ओडीशा आदि राज्य इस क्षेत्र में अग्रणी है। ग़ौरतलब है कि आज इस दिशा में करियर के लिहाज से अपार संभावनाए है|इसलिए भी Fishery Technology :जलीय जीवो का अनदेखा संसार करियर की दृष्टि से है खास इसलिए आप भी  Fishery Technology में करियर बना कर अपने भविष्य में चार चाँद लगा सकते है| आइए अब हम आपको बताते है, कि Fishery Technology क्या है , करियर की संभावनाएँ, सैलरी, प्रमुख संस्थान इत्यादि के बारे में

     फिशरी टेक्नोलॉजी क्या है?

    वर्तमान समय में मत्स्य पालन एक संगठित रोज़गार का रूप ले चुका है। इस क्षेत्र नव युवकों के लिए सुनहरे भविष्य के अत्यंत अधिक अवसर हैं। Fishery Science में न सिर्फ़ उनका पालन अपितु उन्हें पकड़ना, बोट, जाल, तथा अन्य इस से संबंधित उपकरणों की पढ़ाई की जाती है| इसमें करियर बनाने के लिए आप डिग्री और डिप्लोमा में से कोई भी कोर्स कर सकते है |

    Get Latest Info. About this Story/Article, via SMS & Email.

    फिशरी टेक्नोलॉजी कोर्स

    अगर आप Fishery Technology से जुड़े तथ्यों से अवगत हो चुके हो| मत्स्य पालन में करियर बनाने हेतु छात्र को 12वीं में बॉयोलॉजी (जीव विज्ञान) विषय का पढ़ना आवश्यक है। और आप भी अगर फिशरी टेक्नोलॉजी कोर्स (Fishery Technology Course) करके अपना करियर इस दिशा में बनाना चाहते है, तो आपके पास Fishery Technology में प्रवेश पाने के निम्नलिखित रास्ते है आप चाहे तो इन कोर्स को कर Fishery Technology में अपना करियर बना सकते है |

    फिशरी टेक्नोलॉजी के कार्य क्षेत्र

    • बैचलर ऑफ साइंस इन फिशरीज
    • मास्टर ऑफ साइंस इन फिशरीज / पीएचडी 
    • डिप्लोमा/ सर्टिफ़िकेट कोर्स

    यदि आप भी फिशरी टेक्नोलॉजी में अपना करियर बनाना चाहते है तो ऊपर दिए गये कोर्स में से किसी एक को चुन सकते है|आइये अब हम आपको फिशरी टेक्नोलॉजी के कार्य क्षेत्र के बारे में बताते है | फिशरी टेक्नोलॉजी कोर्स करने के बाद आप चाहे तो इन करियर प्रोफाइल को चुन सकते है |

    • बायोकेमिस्ट
    • सहायक मत्स्य पालन अधिकारी
    • जिला मत्स्य पालन अधिकारी
    • शोध सहायक
    • तकनीशियन

    आवश्यक योग्यता

    Eligibility (योग्यता)
    • उम्मीदवारों को Fishery Technology में दाख़िला पाने के लिये किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से 10+2 में विज्ञान विषय (PCB) के साथ न्यूनतम 50% अंक प्राप्त करना अनिवार्य है |
    Age (उम्र)
    • 16 वर्ष या उससे अधिक
    Qualification (शैक्षिक योग्यता)
    • इंटरमीडिएट
    Admission Process (प्रवेश प्रक्रिया)
    • एंट्रेंस एग्जाम
    • ICAR

    आवश्यक कौशल 

    • मत्स्य पालन कौशल
    • कृषि में रूचि
    • पशु पालन में रूचि
    • कुशल टीम वर्कर
    • अच्छी कम्युनिकेशन स्किल

    नौकरी के विकल्प 

    मत्स्य पालन में डिग्री प्राप्त कर आप किसी भी फिशरी प्लांट और मत्स्य पालन विभाग में आसानी से नौकरी पा सकते है, या आप अपना खुद का कारोबार भी शुरू कर सकते है साथ ही सरकारी क्षेत्र में भी आप नौकरी पा सकते है| आप बायोकेमिस्ट, सहायक मत्स्य पालन अधिकारी, जिला मत्स्य पालन अधिकारी, शोध सहायक, तकनीशियन बन कर अपने भविष्य को नयी बुलंदियों तक ले जा सकते है तथा आप शोध भी कर सकते है|आप के लिए MPEDA, FSI, NIO, WHO जैसी कंपनी में भी नौकरी के विकल्प (Job Options) सुनहरे है|

    सैलरी 

    मैंने जितने लोगो से फिशरी टेक्नोलॉजी में करियर बनाने की वजह पूछी, सभी ने मुझे दो अहम वजह बतायी | पहला कारण तो इसमें शुरुआती सैलरी का काफी अच्छा होना तथा दूसरा कारण अपना कारोबार कर अच्छा मुनाफ़ा कमाना | यह तय कर पाना ज्यादा मुश्किल न होगा की इस फ़ील्ड में करियर के लिहाज़ से अच्छे विकल्प है | फिशरी टेक्नोलॉजी से जुड़े स्नातक छात्रों को कोई भी फिशरी प्लांट पहली प्राथमिकता देता है | आप शुरुआत में 2 लाख से 3 लाख तक सालाना सैलरी (Salary)पा सकते है | कुछ दिनों बाद आप अनुभव प्राप्त करने के बाद 3 लाख से 5 लाख तक सालाना सैलरी पा सकते है | अनुभव के अनुसार फिशरी टेक्नोलॉजी में सैलरी अधिक होती जाती है |

    Top Institute Of Fishery Technology

    • GB Pant Agriculture University, Uttarakhand
    • West Bengal University of Animal and Fishery Sciences, Kolkata
    • Maharashtra Animal and Fishery Sciences University, Nagpur
    • Assam Agricultural University, Jorhat
    • Central Agricultural University, Imphal Manipur
    • Karnataka Veterinary, Animal and Fisheries Sciences University, Bidar
    • Sri Venkateswara Veterinary University
    • The Central Marine Fisheries Research Institute, Kochi Kerala

    यदि उपरोक्त जानकारियाँ, फिशरी टेक्नोलॉजी से जुड़े आपके सवालों का जवाब देने में हम समर्थ रहे हो तो अपने बहुमूल्य सुझाव हमे देना न भूले |

    आप अपनी उलझने हमे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर भी हमसे सवाल पूछ सकते है|

    Summary
    Fishery Technology:जलीय जीवो का अनदेखा संसार, करियर की दृष्टि से है खास
    Article Name
    Fishery Technology:जलीय जीवो का अनदेखा संसार, करियर की दृष्टि से है खास
    Description
    भारत में मछली पालन तटीय राज्यों का मुख्य व्यवसाय है।समय के साथ यह एक संगठित इंडस्ट्री का रूप ले चुकी है। केरल, प.बंगाल, तमिलनाडु, गोआ, महाराष्ट्र, ओडीशा आदि राज्य इस क्षेत्र में अग्रणी है। ग़ौरतलब है कि आज इस दिशा में करियर के लिहाज से अपार संभावनाए है|इसलिए भी Fishery Technology :जलीय जीवो का अनदेखा संसार करियर की दृष्टि से है खास इसलिए आप भी  Fishery Technology में करियर बना कर अपने भविष्य में चार चाँद लगा सकते है|
    Author
    Publisher Name
    Edufever
    Publisher Logo
    Disclaimer: All the information (including colleges, universities, their respective courses etc.) on Edufever.com has been compiled from the Institution Authority, Respective Websites, Newspaper and other reliable sources available in the public domain. However, if you have found any inappropriate or wrong information/data on the site, inform us by emailing us at mail[@]edufever.com for rectification/deletion/updating of the same.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here